जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने जनपद लखनऊ के सभी शासकीय भूमि के संरक्षण के निर्देश विगत् दिनों दिए थे।
सरोजनीनगर के इलाकों की जमीन से हटाये गए कब्जे, कब्जेदारों पर एफ.आई.आर दर्ज

 लखनऊ। जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने जनपद लखनऊ के सभी शासकीय भूमि के संरक्षण के निर्देश पिछले दिनों दिए थे। इसी क्रम में जनपद लखनऊ में तालाब, पोखर, चारागाह और ग्राम समाज की भूमि पर जिन लोगों ने अवैध कब्जा कर रखा है, जिलाधिकारी ने उसके एक व्यापक सर्वे के निर्देश सम्बंधित उप जिलाधिकारियों को दिए। सर्वे के साथ ही उक्त भूमियों से अतिक्रमण हटाते हुए, भूमि की पैमाइश कराते हुए भूमि का चिन्हांकन कराने के भी निर्देश दिए। 

 इसी क्रम में  सरोजनीनगर  तहसील क्षेत्र के गांवों में करोड़ों की जमीन को खाली कराया गया। उप जिलाधिकारी, सरोजनीनगर के नेतृत्व में नायब तहसीलदार मनीष त्रिपाठी राजस्व निरीक्षक जितेन्द्र सिंह, लेखपाल धर्मेन्द्र, संजय शुक्ला के साथ सरोजनी नगर तहसील के ग्राम बिजनौर की गाटा संख्या 1434 जो ऊसर के रूप में दर्ज है, जिसका कुल रकबा 1.698  हेक्टेयर (लगभग 7 बीघा) है, जिस पर प्रीति नगर क्वा. हाउसिंग सोसाइटी लिमिटेड द्वारा अवैध रूप से प्लाटिंग और दीवार से घेरकर कब्जा किया गया था उसे  बुधवार को हटवा दिया गया है। इसका मूल्य जिलाधिकारी महोदय द्वारा निर्धारित सर्किल रेट के हिसाब से लगभग रु. 13 करोड़ होगा। साथ ही तहसील के अन्य क्षेत्रों में की गई कार्यवाही में कुल 7.424 हेक्टेयर भूमि जिसका मूल्य 4 करोड़ 87 लाख है उसको भी कब्ज़ा मुक्त कराया गया।     

 जिलाधिकारी ने बताया  कि इस अभियान के अंतर्गत अभी तक लगभग 75.704 हे. भूमि मुक्त कराई जा चुकी है जिसकी जिलाधिकारी सर्किल रेट के आधार पर मूल्य लगभग 76 करोड़ 39 लाख रुपये है।  तहसीलवार अवमुक्त कराई गई भूमि का विवरण :- 

1) सदर 8.365 हे. मूल्य 11 करोड़ 30 लाख

2) मोहनलालगंज 7.783 हे. मूल्य 2 करोड़ 58 लाख

3) मलिहाबाद 16.830 हे. मूल्य 7 करोड़ 54 लाख

4) बी.के.टी 22.221 हे. मूल्य 4 करोड़ 59 लाख

5) सरोजनीनगर 20.505 हे. मूल्य 50 करोड़ 38 लाख

जिलाधिकारी ने निरंतर अभियान जारी रखते हुए भूमाफियाओं और शासकीय जमीनों पर नियम विरूद्ध कब्जा करने वाले लोगों पर दण्डात्मक कार्यवाही करते हुए शासकीय भूमियों को संरक्षित कराने के सख्त निर्देश सभी उप जिलाधिकारियों को दिए हैं।