जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने बिजनौर और तेलीबाग तालाबों का किया निरीक्षण। बिजनौर में खाली कराई गई 43 बीघे तालाब की जमीन को पर्यटन स्थल के रूप में बनाया जाएगा।
लखनऊ: तालाब चरागाह समेत शासकीय भूमि पर कब्जा करने वाले भू माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई जारी

लखनऊ । जनपद लखनऊ में शासकीय भूमियों पर कब्जों को हटाने की कार्रवाई लगातार जारी है। इसी क्रम में जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश शुक्रवार को सरोजनी नगर तहसील क्षेत्र स्थित बिजनौर पहुंचे। यहां पर बीते दिनों जिलाधिकारी के निर्देश पर 43 बीघे तालाब पर हो रही अवैध प्लाटिंग को खाली कराकर तालाब बनवाए जाने के निर्देश दिए गए थे। भू-माफियाओं द्वारा तालाब की जमीन को बेचा जा रहा था। इस प्रकरण में सरोजनी नगर थाने में दोषियों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई जा चुकी है। 

जिलाधिकारी ने निरीक्षण के दौरान इस भूमि को बड़े तालाब के रूप में विकसित किए जाने के लिए अधिक संख्या में जेसीबी मशीनें लगाने के निर्देश दिए हैं ।

उन्होंने कहा कि आगामी 15 दिन के अंदर तालाब की खुदाई पूरी कर ली जाए और चारों ओर वृक्षारोपण की योजना बना ली जाए। 43 बीघे की ये भूमि काफी बड़ी है और शहरी क्षेत्र के निकट है इसलिए  निकट भविष्य में इसे पीपीपी मॉडल पर बोट क्लब और वॉटर पार्क के रूप में पर्यटन विभाग के सहयोग से विकसित किए जाने के लिए कार्रवाई अभी से प्रारंभ कर दी जाए।

जिलाधिकारी निरीक्षण के दौरान इस तालाब पर अवैध प्लाटिंग कर रहे लोगों के विरुद्ध तत्काल वैधानिक कार्रवाई करने के निर्देश संबंधित थानाध्यक्ष को दिए।

इसके बाद जिलाधिकारी ने तेलीबाग स्थित ग्यारहवीं के तालाब की भूमि का निरीक्षण किया। यहां पर तालाब की भूमि पर किए गए कब्जे का डिजिटल मैप तैयार करने के निर्देश दिए हैं क्योंकि ये भूमि नगर निगम क्षेत्र में है। यहां पर तहसील और नगर निगम के सहयोग से अवैध कब्जे हटाते हुए तालाब को विकसित किए जाने की कार्रवाई की जाएगी।

जिलाधिकारी ने निरंतर अभियान जारी रखते हुए सभी तहसीलों में शासकीय भूमियों को अवैध अतिक्रमण से मुक्त कराने और अतिक्रमणकारियों पर प्राथमिकी दर्ज करने के साथ ही खाली कराई गई भूमि शासन की मंशा के अनुरूप संरक्षित करते हुए विकास कार्य कराने के निर्देश दिए हैं। निरीक्षण के दौरान अपर जिलाधिकारी प्रशासन अमरपाल सिंह , उप जिलाधिकारी सरोजिनी नगर प्रफुल्ल त्रिपाठी सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।